Best Famous Vedic Astrologer in Chandigarh Mohali Punjab - Connect with the Best Famous Vedic Astrologer in Chandigarh Mohali Punjab to unravel the Astrology predictions that helps you to overcome the challenges.

Best Famous Vedic Astrologer in Chandigarh Mohali Punjab

कन्या

कन्या राशि क्या है?

कन्या एक सम, स्त्री एवं  द्वीस्वभाव राशि है। पृथ्वी तत्व, सौम्य स्वभाव तथा दक्षिण दिशा की मालिक है। प्रकृति बात तथा प्रभाव शरद शुष्क है। इस राशि की जाति वैश्य, रंग पांडुरंग, हरा चितकबरा, रात्रि बली, द्विपद एवं सरल भूमि में भी चलने वाली है। कन्या राशि का स्वामी बुध है तथा यह अस्थिर स्वभाव की मालिक है। बुध इस राशि में उच्च के होते हैं तथा शुक्र इस राशि में नीच के पल देते हैं। कन्या राशि वाले जातकों का शरीर दुबला पतला कद लंबा परंतु कईं बार जातक छोटे कद के भी देखे गए हैं। घने काले बाल, छोटी -छोटी आंखें और नजर तेज होती है। रंग साफ गेहुआ तथा जल्दी-जल्दी चलते हैं। शरीर चिकना व कोमल होता है। यह बड़े चुस्त होते हैं तथा सही आयु से इनकी आयु कम ही प्रतीत होती है। यह बड़े फुर्तीले और समझदार होते हैं।

    न्यायप्रिय, दयालु तथा हर काम को बहुत ठंडे मस्तिष्क से सोचकर करते हैं। विचारशील, बुद्धिमान, नम्रता वाले होते हैं। उलझनों तथा समस्याओं की गुत्थी सुलझाने की इनमें पूर्ण क्षमता होती है। भाई बहन कहीं होते हैं परंतु उनके साथ कम ही बनती है। विचारों में असमानता के कारण तथा स्वभाव परिवर्तनशील होने हेतु परिजन कई बार नाराज हो जाते हैं, फिर भी यह चतुर होते हैं और मौका निकाल के अपना मतलब हल कर लेते हैं। प्रेम संबंध में अड़चनें आती हैं। यह सोचते बहुत हैं इसीलिए पिछड़ जाते हैं। यदि साथ में घर का स्वामी गुरु आगे द्वीस्वभाव में बैठे हो तो विवाह दो होते हैं। स्वभाव के कारण विवाह ठीक ही रहता है परंतु यह विवाह देर बाद ही कराते हैं तथा झगड़े भी होते हैं। संतान सुख मिलता है। संतान से कष्ट भी झेलना पड़ता है। किसी बच्चे के ऊंची जगह से गिरने के कारण चोट लगने तथा बीमारी का भय लगा ही रहता है।

    पानी, पशुओं, गाड़ियों आदि से बच कर रहना चाहिए। पढ़ाई उच्च स्तर की होती है। यह अपने मस्तिष्क से ही पढ़ाई की मंजिलें तय कर लेते हैं। यदि ग्रह स्थिति ठीक हो तो अवश्य उच्च शिक्षा प्राप्त करते हैं। अधिक पढ़े -लिखे जातकों में विज्ञान के प्रति पूर्ण रुचि होती है। साधारण जातक व्यापार को बहुत पसंद करते हैं तथा अपनी बुद्धि से धन कमाते हैं। पहले जीवन में सफलता कम ही मिलती है परंतु उम्र के बढ़ने के साथ-साथ सफलता होती है। गणित में पूर्ण होते हैं। चित्रकार, कवि, रचयिता, गणित आदि में चतुर होते हैं। डॉक्टर, ज्योतिषी, ऑडिटर, पत्रकार, अध्यापक, राजदूत, सहायक, सेक्रेटरी, सहायक नर्स, स्टाफ नर्स, फार्मासिस्ट, अकाउंटेंट, वकील हो तो सफल रहते हैं। कन्या पृथ्वी तत्व राशि है। 

   इसलिए इन जातकों का ध्यान धन उपार्जन की और बहुत होता है तथा धन एकत्रित करने में लगे रहते हैं। 5,9,15,18,19,21,22,23,25,27,29,32, 35,39,41,42,43,45,48,50,53,54,54,59,63 आदि आयु के वर्ष महत्वपूर्ण होते हैं। इन वर्षों में पढ़ाई, विवाह, संतान, कारोबार, नौकरी, प्रमोशन आदि मंगल कार्य होने के योग रहते हैं। यात्राएं बहुत होती हैं तथा जीवन में संघर्ष भी करना पड़ता है। विदेश यात्रा होती है। घर वाहन युक्त होता है। कन्या राशि वाले जातकों को वैसे तो रोग कम ही होते हैं परंतु इनको रोग का भ्रम बना रहता है। हाजमे की खराबी, पेट दर्द, पेट के ऊपरी भाग में गैस, चर्म रोग, बवासीर आदि रोग होने की संभावना रहती है। शराब इनके लिए विशेष हानिकारक होती है। पेट, जिगर, हाथ- पैर, चमड़ी का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। 

   यदि कहीं बुध छठे घर में जोकि इस राशि का स्वाभाविक घर है बैठा हो तो जातक की पत्नी बीमार रहती है तथा किस्मत खराब ही होती है। कन्या राशि वाले जातकों के लिए बुधवार का दिन शुभ फल देने वाला होगा। अंक 5 शुभफल देने वाला है । अंक 5 की बाकी अंकों के साथ अच्छी बनती है परंतु 9 के साथ विशेष प्रभाव देखा गया है। कन्या राशि वाले लोगों को पन्ना अत्यंत शुभ फलदायक रहता है। अगर 8.25 रति पन्ना चांदी में दाएं हाथ की कनिष्ठका उंगली मैं धारण किया जाए तो सर्वदा शुभ फलदायक रहता है ।

2022 आपके लिए क्या मायने रखता है?

कन्या राशि: कन्या राशि वाले जातकों के लिए राशि स्वामी बुध साल के प्रारंभ से ही पंचम भाव में गोचर करेंगे। मकर राशि में सूर्य और शनि की युति 6 मार्च तक रहेगी। सूर्य और शनि की युति होने से इस समय में आप भविष्य की योजनाएं बनाएंगे। परंतु इस समय में आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। धार्मिक कार्यों में इस समय आपकी रूचि बढ़ेगी। पिता का सहयोग इस समय आपके साथ अच्छा रहेगा। आत्मबल इस समय आपका अच्छा रहेगा। काफी मेहनत करने के बाद इस समय निर्वाह योग्य आप धन एकत्रित कर पाएंगे। अगर आप मकान बनाना चाहते हैं तो उसमें भी आपको परेशानी झेलनी पड़ सकती है। किसी विशेष व्यक्ति से धोखे की संभावना इस समय बनी रहेगी। व्यर्थ की चिंता रहेगी। मित्रों से इस समय वैचारिक मतभेद भी रह सकते हैं।6 मार्च से 24 मार्च तक बुध कुंभ राशि में रहेंगे। इस समय में आपका स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहेगा बनते कार्य में विघ्न तथा धन हानि के संकेत बने रहेंगे।

इस समय आपको अत्यधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। कर्जे की स्थिति इस समय में बनी रहेगी। 24 मार्च से 8 अप्रैल तक राशि स्वामी बुध मीन राशि में रहेंगे। सप्तम भाव में बुध के रहने से विवाह संबंधी कार्य इस समय संपन्न हो सकते हैं। इस समय आपका आत्मबल अच्छा रहेगा। सोची-समझी योजनाओं के में आपको सफलता प्राप्त होगी। सभी कार्यों में इस समय आपको सफलता प्राप्त होगी।

8 अप्रैल से 25 अप्रैल तक बुध मेष राशि में रहेंगे। बुध के अष्टम भाव में रहने से इस समय स्वास्थ्य आपका अच्छा नहीं रहेगा और आत्मबल में कमी आएगी। धन हानि के इसमें योग बनते हैं। व्यवसाय में इसमें आपको हानि हो सकती है। काफी मेहनत के बाद इसमें निर्वाह योग्य आय के साधन बनेंगे। 25 अप्रैल से 2 जुलाई तक बुध वृषभ राशि में रहेंगे। भाग्य के घर में रहने से बिगड़े हुए कार्यों में इस समय सुधार आएगा, विदेशी कार्यों में इस समय आपको सफलता प्राप्त होगी। किसी नवीन कार्य में इस समय आपको सफलता प्राप्त होगी और इस समय में आपके पराक्रम में वृद्धि होगी। किसी उच्च अधिकारी से इस समय आपको लाभ प्राप्त हो सकता है। 2 जुलाई से 17 जुलाई तक बुध मिथुन राशि में रहेंगे। बुध दशम भाव में रहने से धार्मिक कार्यों की तरफ इस समय आपका रुझान अधिक रहेगा और सरकारी मामलों में आपको अच्छी सफलता प्राप्त होगी। जमीन जायदाद के क्रय-विक्रय से इसमें आपको अच्छा लाभ प्राप्त होगा। वाहन आदि का सुख भी इस समय आपको प्राप्त हो सकता है।

17 जुलाई से 1 अगस्त तक बुध कर्क राशि में रहेंगे। इस समय में सरकारी मामलों में आपको असफलता का सामना करना पड़ेगा। कारोबार में भी इस समय आपको परेशानी झेलनी पड़ सकती है। बनते काम इस समय आपके बिगड़ सकते हैं। बच्चों की तरफ से भी इस समय आपका मन परेशान रह सकता है। सिर दर्द, आंखों में कष्ट एवं चोट आदि का भय भी रहेगा। 1 अगस्त से 21 अगस्त तक बुध सिंह राशि में रहेंगे। इस समय में आप के खर्चे अधिक बढ़ेंगे। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी आपको झेलनी पड़ सकती हैं। शत्रुओं से इस समय आपको डर रहेगा और कोर्ट कचहरी के मामलों में आपको इससे में हार का सामना करना पड़ेगा। 21 अगस्त से 26 अक्टूबर तक बुध कन्या राशि में लग्न में रहेंगे। इस समय में आप का आत्मबल बड़ा रहेगा। आपके द्वारा किए गए सभी प्रयासों में इस समय आपको सफलता प्राप्त होगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी।

इस समय में आपको अच्छा धन लाभ प्राप्त होगा। इस समय में आपको अच्छी उन्नति और व्यवसाय में अच्छी बढ़ोतरी करने के अवसर प्राप्त होंगे। 26 अक्टूबर से 13 नवंबर तक बुध तुला राशि में रहेंगे। इस समय में आपको धन हानि के योग बनते हैं। किसी ऐसी जगह पर या फिर बिजनेस में इन्वेस्ट ना करें जिसका आपको कोई ज्ञान ना हो। मंगल की शुक्र के साथ में युति होने की वजह से इस समय में आपके ऊपर आरोप लगने के योग बनते हैं। 13 नवंबर से 3 दिसंबर बुध वृश्चिक राशि में रहेंगे। बुध के तीसरे घर में रहने से इस समय में पराक्रम में वृद्धि होगी और आप अपनी सभी परेशानियों से मुक्त होंगे। उच्च अधिकारियों से इस समय में आप के संपर्क अच्छे रहेंगे। पराक्रम में इस समय में आपके वृद्धि होगी। 3 दिसंबर 28 दिसंबर तक बुध धनु राशि में रहेंगे। चतुर्थ भाव में रहने से इस समय में आप भूमि और वाहन आदि का सुख अच्छा प्राप्त करेंगे। मकान खरीदने के या फिर वाहन खरीदने के इस समय में अच्छे योग बनते हैं।

Vedic Astrolog Centre is and very old something something should be here to make it look bit appealing otherwise we can delete this!! 🙂
Hope you liked my work!

Vedic Astrology Centre

contact pandit ji

Send me a Message